Self confidence level kaise badhaye | Tips to increase self confidence in hindi 

Story on self confidence with moral in Hindi 

सेल्फ कॉन्फिडेंस एक छोटा सा शब्द ,पर इसके मायने हमारे जीवन में  बहुत बड़े हैं ये चाहे तो इंसान को अर्श से फर्श पर ला दे या फिर यूँ कह लीजिये किसी को फर्श से अर्श पर ला दे। चलिए आसान भाषा में इसके मायने समझते हैं :
चलिए एक किस्सा आपके साथ अपने बचपन  की शेयर करता हूँ , बचपन से ही मुझे मछली पकड़ने का काफी शौक था मैं अक्सर गांव के तालाबों में और कई बच्चों के साथ मछली पकड़ने चले जाया करता था और एक भी मछली पकड़ लेने पर काफी खुश हो जाता था और मेरे अंदर एक कॉन्फिडेंस आ जाता था की मैं और भी मछलियां पकड़ सकता हूँ और पकड़ भी लिया करता था पर एक दिन तालाब में मछली पकड़ने की कोशिश में मैंने एक सांप को पकड़ लिया इसके बावजूद मैं  डरा नहीं जानते है क्यों ? क्यूंकि उस वक़्त मैं अबोध बालक था और मुझे किसी ने यह नहीं बताया था की पानी में सांप भी होते है और वह काट लेने से मौत हो सकती  है। लेकिन कुछ दिनों के बाद मुझे घरवालों ने यह जानकारी दी और मैं डर गया और जानते हैं इस डर  की वजह से मैंने अपना सेल्फ कॉन्फिडेंस खो दिया और जो चीज़ मुझे कभी सबसे ज्यादा पसंद थी उससे मैं दूर होता गया। 

इस किस्से के जरिये बस यही आपको बताना चाह रहा था की अक्सर हम अपने डर की वजह से अपना आत्मविश्वास  खो देते हैं हालाँकि जैसा की आप सबको मालुम होगा की अक्सर पानी वाले सर्प जहरीले नहीं होते हैं लेकिन डर की वजह से जो की अकसर हमारे मन में बैठ जाता है उससे उभरना फिर काफी मुश्किल हो जाता है , कहने का आशय बस इतना है की हमें किसी चीज़ को अपने ऊपर इतना हावी नहीं होने देना है की वो हमारे हिम्मत और हौसला को हिला दे। 
अब जान लेते है कुछ तरीके जिनसे आप हमेशा confident  फील करेंगे। 

Tips to increase self confidence :

जैसा की आप लोग सब जानते हैं आज कल के समय में जो दिखता  है वही बिकता है जी हाँ बिलकुल सही पढ़ा आपने, अगर आप भले ही कितने बड़े ज्ञानी हो और  आप उस ज्ञान को low self confidence  होने के  कारन कहीं व्यक्त ही नहीं कर पा रहे हैं  तो क्या समाज में आपको ज्ञानी माना जाएगा ?  बिलकुल नहीं। इसलिए हमें अपने भीतर आत्मविश्वास को बढ़ाये रखना है ताकि हम समाज में अपनी पहचान और जीवन की चुनौतियों का डटकर सामना कर सके।  चलिए अब जान लेते हैं वो तरीके जिससे हम सेल्फ कॉन्फिडेंट रहें:
self-confidence-level-kaise-badhayen-hindi



माँ बाप का योगदान बच्चों में सेल्फ कॉन्फिडेंस develop करने में :

जी हाँ बचपन एक ऐसा समय है जब माँ बाप की जिम्मेदारी बनती है की वह अपने बच्चों को अच्छी नैतिक शिक्षा दे और उनके मन में डर की भावना उत्पन्न न होने दे बल्कि उन्हें सही और गलत का ज्ञान जरूर दे। ऐसा करने से बच्चों का मनोबल बढ़ता है और वे बच्चे आगे चलकर आत्मविश्वास से भरे रहते हैं। बच्चों को नयी स्किल्स सिखने के लिए मोटीवेट  भी करें। 

जीवन में अपना लक्ष्य निर्धारित करें और उसे पाने में पूरी ताकत झोंक दे :

अक्सर हम ज़िन्दगी  को बहुत  हल्के  में ले लेते हैं  और यह सोचते हैं की ज़िन्दगी ऐसे ही कट जाएगी परन्तु ऐसा नहीं है हमें कई चुनौतियों से जूझना पड़ता है इसलिए हमें अपने जीवन का समय निर्धारित लक्ष्य बना कर उसे जल्द से जल्द पूरा करना चाहिए। हमें छोटे छोटे लक्ष्य से शुरुआत करनी चाहिए और यकीन मानिये जैसे जैसे आप इन छोटे छोटे टारगेट पुरे करते जाएंगे आपका मनोबल यानी सेल्फ कॉन्फिडेन्स बढ़ता चला जाएगा और आप चुनौतियों का सामना करने में सहज महसूस करेंगे। 

communication स्किल्स केवल नहीं कम्यूनिकेट यानी बात चित भी करें :

अक्सर हम अपने आस पास देखते हैं लोग आपस में बात चित करने से भी झिझकते हैं और अक्सर ऐसे लोगों में कॉन्फिडेंस  की कमी होती है , हमें  आपस में बात चित करनी चाहिए जिससे हम एक दूसरे के विचारो को समझ सके अपने ideas शेयर कर सके। आज के इस competitive लाइफ में अगर आप अच्छे वक्ता है तो आपको जॉब में भी प्रोन्नति आसानी से  मिलती है जिससे की आपका सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ता है। 

eye कांटेक्ट बहुत जरूरी :

कोशिश करे eye to eye कांटेक्ट  बनाने की इससे सामने वाला व्यक्ति आपको कॉंफिडेंट समझेगा और आप अपनी बात को बेझिझक तरीके से सबके समक्ष रख पाएंगे इससे आपका भी मनोबल बढ़ेगा कई बार हम व्यक्ति के फेसिअल एक्सप्रेशंस से समझ जाते है की वह आपके बातों में दिलचलस्पी ले रहे या नहीं इसके लिए आपका eye कांटेक्ट करना बेहत जरूरी हो जाता है.

योग और मैडिटेशन करें :

योग और मैडिटेशन  को अपनी रोज़ाना ज़िन्दगी का हिस्सा बनाये यह करने से आप शारीरिक रूप से ऊर्जावान रहेंगे और अपने डेली टार्गेट्स को अचीव करने में आपको ऊर्जा मिलेगी और आपका आत्मविश्वास और मोटिवेशन लेवल बढ़ेगा। 

नकारात्मक विचारों से दूर रहे: 

 हमेशा अपने आस  पास POSITIVE ENVIRONMENT बना के रखें , ईश्वर के प्रति आस्था रखें क्यूंकि नेगेटिव थॉट्स हमें अंदर से कमज़ोर करती है जिसका सीधा असर हमारे कॉन्फिडेंस पर पड़ता है कोशिश करे उन लोगों के साथ वक्त बिताने की जो सकारात्मक विचार रखते हों और जो आपको अच्छी चीज़ों  प्रेरित करते हो।  

Affirmations for confidence :

 जी हाँ कई बार यह ट्रिक हमें बूस्ट कर देती है जब हमारा self  कॉन्फिडेंस low रहता है affirmation यानी पॉजिटिव थॉट्स जो हम किताबों में या इंटरनेट पर पढ़ते हैं , यह वाकई कार गर है अगर आप 10 बार बोल कर देखे "मै अच्छा हूँ" तो यकीनन आपको भीतर से एक सुकून महसूस होगा और आप ग्लानि भाव से बहार निकल आएँगे।  कुछ affirmative थॉट्स आप try कर सकते हैं जैसे :

  • मैं जरूर जीतूंगा। 
  • मैं तुझे हासिल कर के ही रहूँगा 
  • वक़्त मेरा है 
हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा और आपका कॉन्फिडेंस लेवल इसे पढ़ने के बाद बढ़ गया होगा अगर आपको हमारा यह लेख  इसे शेयर कीजिये जिससे मुझे और  सके आपके लिए और बेहतर विषयों पर लेख लिखने की। 
धन्यवाद।